• Home
  • राष्ट्रीय
  • पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के उद्घाटन के अवसर पर प्रधानमंत्री के संबोधन का मूल पाठ
राष्ट्रीय

पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के उद्घाटन के अवसर पर प्रधानमंत्री के संबोधन का मूल पाठ

भाइयों और बहनों,

स्वास्थ्य सुविधाओं के अभाव में भी अगर सबसे अधिक परेशानी किसी को होती थी, तो वो भी हमारी माताओं-बहनों को ही होती थी।बच्चे से लेकर पूरे परिवार के स्वास्थ्य की चिंता, खर्च की चिंता ऐसी होती थी कि वो अपना इलाज कराने तक से बचती थी।लेकिन आयुष्मान भारत योजना, नए अस्पतालों, मेडिकल कॉलेज जैसी सुविधाओं से हमारी बहनों-बेटियों को बहुत बड़ी राहत मिली है।

साथियों,

डबल इंजन की सरकार के जब ऐसे डबल लाभ मिलते हैं, तो उन लोगों का, मैं देख रहा हूं आपा खो रहे हैं, क्‍या-क्‍या बोले जा रहे हैं, उनका विचलित होना बहुत स्वाभाविक है।जो अपने समय में असफल रहे वो योगीजी की सफलता भी नहीं देख पा रहे हैं। जो सफलता देख नहीं पा रहेहैं वो सफलता पचा कैसे पाएंगे।

भाइयो-बहनों,

इनके शोर से दूर, सेवाभाव से राष्ट्रनिर्माण में जुटे रहना यही हमारा कर्म है, यही हमारी कर्म गंगा है और हम इस कर्म गंगा को ले करके सुजलाम, सुफलाम का वातावरण बनाते रहेंगे। मुझे विश्वास है, आपका प्यार, आपका आशीर्वाद हमें ऐसे ही मिलता रहेगा।एक बार फिर पूर्वांचल एक्सप्रेसवे की आपको बहुत बधाई।

मेरे साथ बोलिए, पूरी ताकत से बोलिए,

भारत माता की जय !

भारत माता की जय !

भारत माता की जय !

बहुत-बहुत धन्यवाद !

Related posts

गणतंत्र दिवस परेड: राजपथ पर दिखी भारत की आन बान शान की तस्वीर

Rajasthan Samachar

बहुजन शोषित समाज संघर्ष संगठन(BS4)भारत की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के विस्तार के साथ प्रदेशाध्यक्ष राजस्थान व मध्यप्रदेश की घोषणा

Rajasthan Samachar

दिल्ली के इंडस्ट्रियल मे एरिया में आग

Rajasthan Samachar

Leave a Comment

error: Content is protected !!