• Home
  • राष्ट्रीय
  • भारत में कोरोना वैक्सीन की बूस्टर डोज़ को मिल सकती है हरी झंडी, 20% लोगों में नहीं दिखी एंटीबॉडी
राष्ट्रीय

भारत में कोरोना वैक्सीन की बूस्टर डोज़ को मिल सकती है हरी झंडी, 20% लोगों में नहीं दिखी एंटीबॉडी

Covid-19 Vaccine Booster Dose: अमेरिका और कई यूरोपीय देशों में बूस्टर डोज़ की अनुमति पहले ही दे दी गई है. अमेरिका में वैक्सीन की तीसरी डोज़ 20 सितंबर से दी जाएगी.

नई दिल्ली. भारत में भी कोरोना वैक्सीन (Covid-19) की तीसरी यानी बूस्टर डोज़ (Booster Dose) को हरी झंडी मिल सकती है. जल्द ही इस बारे में इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) फैसला ले सकता है. दरअसल रिसर्च में पता चला है कि वैक्सीन लेने वाले 20 फीसदी लोगों में कोरोना से लड़ने की एंडीबॉडी खत्म हो गई है. बता दें अमेरिका और कई यूरोपीय देशों में बूस्टर डोज़ की अनुमति पहले ही दे दी गई है. अमेरिका में वैक्सीन की तीसरी डोज़ 20 सितंबर से दी जाएगी.

अंग्रेजी अखबार न्यू इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर में एक रिसर्च यूनिट में काम करने वाले 23 फीसदी लोगों में एंटीबॉडी नहीं मिली, जबकि इन सबने वैक्सीन की दोनों डोज़ ली थी. ऐसे में माना जा रहा है कि भारत में भी लोगों को जल्द ही बूस्टर डोज़ दी जा सकती है. भारत में इस साल 16 जनवरी से कोरोना वैक्सीनेशन अभियान की शुरुआत की गई थी.

एंटीबॉडी के स्तर में गिरावटभुवनेश्वर स्थित इंस्टीट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज (ILS) के निदेशक डॉ. अजय परिदा ने सुझाव दिया कि कम एंटीबॉडी वाले लोगों को बूस्टर डोज़ दी जाएगी. उन्होंने कहा, ‘हालांकि कुछ कोविड संक्रमित लोगों में एंटीबॉडी का स्तर 30,000 से 40,000 है. जबकि वैक्सीन की दोनों डोज़ लेने वाले कुछ लोगों में ये 50 से भी नीचे है. अगर एंटीबॉडी का स्तर 60 से 100 है, तो हम कह सकते हैं कि व्यक्ति एंटीबॉडी पॉजिटिव है.’

कितने दिनों में कम हो रही है एंटीबॉडी?बता दें कि भुवनेश्वर स्थित ये संस्थान भारतीय SARS-CoV-2 जीनोम कंसोर्टियम (INSACOG) का एक हिस्सा है, जो देश भर में 28 प्रयोगशालाओं का एक नेटवर्क है. इनका मुख्य तौर पर काम है कोरोना वायरस के नए वेरिएंट का पता लगाना. यानी जीनोम सीक्वेंसिंग के जरिए वायरस का पूरा कच्चा चिट्ठा तैयार करना. रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि वैक्सीन की दोनों डोज़ लेने के बाद कई लोगों में एंटीबॉडी का स्तर चार से छह महीने के बाद कम होता देखा गया. अजय परिदा ने कहा कि पूर्ण टीकाकरण के बावजूद कम या नेगेटिव एंटीबॉडी वाले लोगों के लिए बूस्टर डोज़ की जरूरत होती है.

ICMR को फ़ाइनल रिपोर्ट का इंतज़ारअजय परिदा ने ये भी कहा कि क्लीनिकल स्टडी अपने अंतिम चरण में है. उन्होंने कहा कि भारतीय टीकों- कोविशील्ड और कोवैक्सिन की प्रभावकारिता लगभग 70-80 प्रतिशत है. यानी टीका लेने के बाद भी लगभग 20-30 प्रतिशत ऐसे लोगो होते हैं जिनमें एंटीबॉडी विकसित नहीं होती है. परिदा ने कहा कि ICMR रिपोर्ट के आधार पर बूस्टर डोज़ को मंजूरी दे सकता है.

Related posts

मंत्रिमंडल ने उज्‍ज्‍वला लाभार्थियों के लिए ‘प्रधानमंत्री गरीब कल्‍याण योजना’ का लाभ लेने की सीमा 1 जुलाई 2020 से तीन महीने के लिए बढ़ाने को मंजूरी दी

Rajasthan Samachar

पाकिस्‍तान ने चीन को दिया बड़ा झटका, बीगो ऐप बैन, टिकटॉक को अंतिम चेतावनी

Rajasthan Samachar

Onward movie review: Chris Pratt, Tom Holland and Disney Pixar will make you laugh and cry but not enough

admin

Leave a Comment

error: Content is protected !!