• Home
  • राजस्थान प्रदेश
  • Gujjar Reservation: चौथे दिन भी दिल्ली-मुंबई ट्रैक पर जमे हैं प्रदर्शनकारी, कर्नल ने कहा- मांग पूरी होने तक संघर्ष रहेगा जारी
राजस्थान प्रदेश

Gujjar Reservation: चौथे दिन भी दिल्ली-मुंबई ट्रैक पर जमे हैं प्रदर्शनकारी, कर्नल ने कहा- मांग पूरी होने तक संघर्ष रहेगा जारी

भरतपुर: आरक्षण की मांग को लेकर भरतपुर के पीलूपुरा में गुर्जर पिछले चार दिनों से रेलवे ट्रैक जाम करके धरने पर बैठे हैं. कर्नल बैंसला को बातचीत की टेबल पर बिठाने के लिए वरिष्ठ आईएएस नीरज के पवन ने बैंसला के साथ बुधवार दोपहर दूसरे दौर की बातचीत की है. बातचीत करीब 20 मिनट तक चली. कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला से वार्ता के लिए नीरज के पवन ने हिंडौन पहुंचने से पहले पीलूपुरा में विजय बैंसला से मुलाकात की थी. इससे पहले मंगलवार देर रात आईएएस पवन समझाइश करने के लिए पीलूपुरा पहुंचे थे.

कर्नल ने कहा कि मांग पूरी होने तक संघर्ष जारी रहेगा:
वहीं कर्नल बैंसला से नीरज के पवन की एक बार फिर से फोन पर बात हुई है. इस दौरान बैंसला ने नीरज के पवन से पटरी पर आने के लिए कहा है. इस दौरान कर्नल ने कहा कि मांग पूरी होने तक संघर्ष जारी रहेगा. खुद भी चाहता हूं कि इसका हल निकले, सड़के जाम होने से मैं चिंतित हूं. हम बात करने के लिए तैयार है बस मांग पूरी होनी चाहिए. हम सरकार के प्रस्ताव पर विस्तार से चर्चा करेंगे, लेकिन अब आगे समय देने का वक्त जा चुका है. इंटरनेट को लेकर बोलते हुए बैंसला ने कहा कि हम उपद्रव नहीं करेंगे इंटरनेट खोल देना चाहिए.

लिखित मसौदे के बारे में चर्चा की जाएगी:
दूसरी ओर फोन पर बात होने के बाद IAS नीरज के पवन के पीलूपुरा के लिए निकलने की जानकारी भी आ रही है. वे एक बार फिर रेलवे ट्रैक पर पहुंचकर गुर्जर नेता किरोड़ी सिंह बैंसला से वार्ता करेंगे. इस दौरान लिखित मसौदे के बारे में चर्चा की जाएगी. वहीं उधर दौसा के आभानेरी में कर्नल बैंसला ने गुर्जर पंचायत को फोन पर संबोधित किया. इस दौरान सिकंदरा हाईवे जाम के लिए निर्देशत किया.

दो धड़ों में बंटा गुर्जर आन्दोलन:
समाज का एक धड़ा जहां कर्नल किरोड़ी बैंसला की अगुवाई में सड़क से लेकर रेलवे ट्रैक पर आन्दोलन पर उतर आया है वहीं दूसरा गुट इसमें शामिल नहीं होकर आन्दोलन वापस लेने की अपील कर रहा है. कर्नल बैंसला के आन्दोलन पर गुर्जर नेता हिम्मत सिंह गुर्जर ने ट्वीट कर नाम लिए बगैर निशाना साधते हुए कहा है कि पिछले 14 साल से राजनीतिक पार्टियों से सौदेबाजी की गई है. तत्कालीन सरकारों से समझौतों के नाम पर गुर्जर समाज के साथ धोखा किया गया है. समाज से फरेब कर राजनीतिक हित साधने का काम किया गया है. आज वे लोग 80 गांव के पंच-पटेलों के समझौते पर अंगुली उठा रहे हैं.

गुर्जर नेता हिम्मत सिंह ने ट्वीट में लिखा कि जो आज कथित बैकलॉग की मांग कर रहे हैं वे ध्यान दें कि 6 मई 2010 के सरकारी आदेश में 4 प्रतिशत पद नोशनल रूप से सुरक्षित रखे जाने की बात कही गई है. नोशनल का अर्थ काल्पनिक है, इसी तरह बैकलॉग भी काल्पनिक है और रहेगा. एमबीसी युवाओं को सब्जबाग दिखाने से बाज आएं.

Related posts

Yes Bank can come out of administration soon, says SBI chairman Rajnish Kumar

admin

सोशल मीडिया पर अनुसूचित जाति,जनजाति समाज व बाबा साहब भीमराव अंबेडकर के संबंध में अश्लील और अभद्र पोस्ट करने वाले को गिरफ्तार किया गया

Rajasthan Samachar

डीजीपी एमएल लाठर ने किया पदभार ग्रहण, कहा – प्रदेश में शांति व्यवस्था बनाए रखने के आवश्यक प्रयास किए जाएंगे

Rajasthan Samachar

Leave a Comment

error: Content is protected !!