• Home
  • राजस्थान प्रदेश
  • मुख्यमंत्री ने दी मंजूरी आरटीई एक्ट के तहत निजी स्कूलों में निशुल्क प्रवेश के लिए अभिभावकों की आय सीमा होगी ढाई लाख
जयपुर राजस्थान प्रदेश

मुख्यमंत्री ने दी मंजूरी आरटीई एक्ट के तहत निजी स्कूलों में निशुल्क प्रवेश के लिए अभिभावकों की आय सीमा होगी ढाई लाख

जयपुर, 15 मई। मुख्यमंत्री  अशोक गहलोत ने निशुल्क शिक्षा एवं अनिवार्य बाल शिक्षा का अधिकार अधिनियम-2009 (आरटीई एक्ट) के तहत प्रदेश के गैर सरकारी विद्यालयों में 25 प्रतिशत सीटों पर दुर्बल वर्ग एवं असुविधाग्रस्त समूह के निशुल्क प्रवेश के लिए अभिभावकों की वार्षिक आय सीमा एक लाख रूपए के स्थान पर ढाई लाख रूपए करने को मंजूरी दी है।
 गहलोत की इस स्वीकृति से प्रदेश में शिक्षा का अधिकार अधिनियम की भावना को मजबूती मिलेगी। आय सीमा बढ़ाने से दुर्बल वर्ग और असुविधाग्रस्त समूह के और अधिक बच्चे गैर सरकारी स्कूलों में निशुल्क प्रवेश पा सकेंगे। मुख्यमंत्री के इस निर्णय से बड़ी संख्या में इस वर्ग के वे बच्चे भी बड़े एवं नामी निजी स्कूलों में निशुल्क शिक्षा ग्रहण कर सकेंगे जो गत सरकार द्वारा अभिभावकों की आय सीमा ढ़ाई लाख रूपए सालाना से घटाकर एक लाख रूपए करने के कारण वंचित हो गए थे।
उल्लेखनीय है कि बीते दिनों शिक्षा विभाग की वीडियो कांफ्रेंस में मुख्यमंत्री ने इस बात पर बल दिया था कि निशुल्क शिक्षा एवं अनिवार्य बाल शिक्षा का अधिकार अधिनियम की भावना के अनुरूप जरूरतमंद परिवारों के बच्चों को लाभ दिए जाने की जरूरत है। उन्होंने इस बात पर चिंता व्यक्त की थी कि अभिभावकों की आय सीमा घटाने के फैसले के कारण जरूरतमंद परिवारों के बच्चों को गैर सरकारी स्कूलों में निशुल्क शिक्षा ग्रहण करने का अवसर नहीं मिल पा रहा है, जो कि इस अधिनियम की मूल भावना के विपरीत है।

Related posts

प्रबोधक संघ इटावा ने मुख्यमंत्री का आभार जताया तथा ईर्ष्यालु प्राथमिक माध्यमिक संघ नेता की निंदा की

Rajasthan Samachar

माली समाज के जनप्रतिनिधियों का हुआ सम्मान

Rajasthan Samachar

जयपुर: अलवर मॉब लिंचिंग के आरोपियों की जमानत खारिज हो गई है. राजस्थान हाईकोर्ट ने दोनों आरोपी विजयकुमार और धर्मेन्द्र कुमार की जमानत याचिका को खारिज किया है. जस्टिस इंद्रजीत सिंह की एकलपीठ ने यह आदेश दिया है. राज्य सरकार की ओर से सरकारी अधिवक्ता राजेन्द्र यादव ने जमानत का विरोध करते हुए कहा था कि ट्रायल पूर्ण होने तक आरोपियों का बाहर आना खतरनाक है. आपको बता दें कि 20 जुलाई 2018 को अलवर के ललावंडी गांव में जंगलों से गोवंश लेकर हरियाणा जा रहे रकबर उर्फ अकबर और उसके साथी असलम की गांववालों ने लाठी डंडों से बुरी तरह पिटाई की थी. इसमें अकबर ने दम तोड़ दिया, जबकि असलम जान बचाकर भाग गया था.

Rajasthan Samachar

Leave a Comment

error: Content is protected !!