• Home
  • राजस्थान प्रदेश
  • राजस्थान में फ्लैगशिप योजनाओं की घोषणाकमजोर वर्गो के सशक्तिकरण तथा उन्हें विकास की मुख्य धारा में लाने का है उद्देश्य
राजस्थान प्रदेश

राजस्थान में फ्लैगशिप योजनाओं की घोषणाकमजोर वर्गो के सशक्तिकरण तथा उन्हें विकास की मुख्य धारा में लाने का है उद्देश्य

जयपुर 15 मई। राजस्थान सरकार ने आज सरकार समाज के कमजोर वर्गो के व्यक्तियों के सशक्तिकरण तथा उन्हें विकास की मुख्य धारा में लाने के उद्देश्य से स्वास्थ्य, शिक्षा, कृषि, सामाजिक सुरक्षा, रोजगार, आदि क्षेत्रों में समाज के कमजोर वर्ग की प्राथमिकताओं को ध्यान में रखते हुए फ्लैगशिप योजनाओं की घोषणा की है।
इसके तहत शुद्ध के लिये युद्ध, निरोगी राजस्थान, मुख्यमंत्री निःशुल्क दवा योजना, मुख्यमंत्री निःशुल्क जांच योजना, आयुष्मान भारत महात्मा गांधी राजस्थान स्वास्थ्य बीमा योजना, एक रुपये किलो गेहूँ, महात्मा गांधी अंग्रेजी माध्यम स्कूल, मुख्यमंत्री कन्यादान /हथलेवा योजना, सिलिकोसिस पॉलिसी 2019 के अन्तर्गत देय लाभ, मुख्यमंत्री एकल नारी सम्मान पेंशन योजना, मुख्यमंत्री वृद्धजन सम्मान पेंशन योजना, मुख्यमंत्री विशेष योग्यजन सम्मान पेंशन योजना, पालनहार योजना, राजस्थान कृषि प्रसंस्करण, कृषि व्यवसाय एवं कृषि निर्यात प्रोत्साहन योजना 2019 मुख्यमंत्री स्माल स्केल इंडस्ट्रीज प्रमोशन स्कीम, एम.एस.एम.ई. एक्ट – स्व प्रमाणीकरण, राजस्थान इन्वेस्टमेंट प्रमोशन स्कीम (RIPS) 2019. जन-सूचना पोर्टल एवं जन आधार योजना को पलैगशिप योजनाओं के रूप में घोषित किया है।

आयोजना विभाग के प्रमुख शासन सचिव अभय कुमार ने बताया कि फ्लैगशिप योजनाओं का उद्देश्य लोगों के जीवन स्तर में व्यापक स्तर पर सुधार लाना और यह सुनिश्चित करना है कि विकास व्यापक रूप से फैले ताकि आय और रोजगार के मामले में इसका लाभ समाज के गरीब और कमजोर वर्गों को पर्याप्त रूप से प्राप्त हो।

उन्होंने बताया कि फ्लैगशिप योजनाएं राज्य के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि सबसे पहले यह लगातार समस्या को हल करने की दिशा में एक एकीकृत दृष्टिकोण लेता है, दूसरा समस्याओं के समाधान के प्रयासों को प्राथमिकता दी जाती है तीसरे क्योंकि पलैगशिप कार्यक्रमों के लिए एक बड़ा फंड आवंटित किया जाता है इसलिए फंड की कमी के कारण कार्यक्रम और इसके उद्देश्य प्रभावित नहीं होते है।

इन फ्लैगशिप योजनाओं की नियमित मॉनीटरिंग संबंधित विभागों के साथ-साथ जिले के प्रभारी मंत्रियों, सचिवों एवं संबंधित जिला कलेक्टर के द्वारा की जावेगी।

Related posts

कोटा में उच्च शिक्षा के बदलते आयाम और कोविड-19 से उपजी चुनौतियां विषय पर राष्ट्रीय सेमिनार आयोजित, शिक्षा के नए मॉडल को लागू कराना प्राथमिकता – उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी

Rajasthan Samachar

बिहार के 118 बाल श्रमिकों की स्पेशल ट्रेन से घर वापसी

Rajasthan Samachar

प्रत्येक ग्राम में होंगे 2-2 सेवाभावी स्वास्थ्य मित्र

Rajasthan Samachar

Leave a Comment

error: Content is protected !!